Top 5 हाई प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न हिन्दी मे

इस ब्लॉग मे हम 5 हाई प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न के बारे में हिन्दी मे जानेंगे। साथ में ये भी जानेंगे की ये कैंडल स्टिक क्या है? कैंडल स्टिक पैटर्न क्या बताता है? कैंडल स्टिक को कैसे पढ़ते हैं? कैंडल स्टिक कितने प्रकार के होते है और इनका उपयोग कैसे किया जाता है। तो ब्लॉग को पूरा पढ़े इसमें सारी जानकारी हिन्दी मे आसान भाषा में दी गई है। 

Candle stick pattern Hindi

{getToc} $title={Table of Contents}

कैंडल स्टिक पैटर्न क्या है

कैंडल स्टिक चार्ट पैटर्न का जन्म जापान में हुआ था। इसलिए इसे जापानी कैंडल स्टिक पैटर्न भी कहा जाता है। जापान के एक चावल व्यापारी ने इसकी सहायता से बहुत पैसा कमाया। उसने देखा की चावल के प्राइस कैसे बढ़ते और घटते है इसी आधार पर कैंडल स्टिक पैटर्न का निर्माण किया गया। कैंडल स्टिक पैटर्न को समझने से पहले हमे कैंडल को समझना होगा।  चलो जानते है कि कैंडल क्या होता है

किसी भी शेयर के प्राइस ऊपर या नीचे जाते है तो उस मे 4 स्थितियां बनती है।
1 ओपन प्राइस
2 हाई प्राइस
3 लो प्राइज
4 क्लॉज प्राइस
इन चारो स्थिति के आधार पर एक कैंडल बनाया जाता जो की इस प्रकार दिखता है।

Candle stick pattern
Basic candle stick 

इस फोटो में देखने पर हमे कैंडल दिख रही है। जिसमे 2 कलर में 2 कैंडल बनी हुई है। जो ग्रीन कलर कैंडल उसे बुलिश कैंडल और जो रेड कलर में है उसे बीयरिश कैंडल कहते है।

जो बुल्लिश कैंडल है उसमे ओपनिंग प्राइस नीचे और क्लोजिंग प्राइस ऊपर होता है। ठीक इसका उल्टा बेयरिश कैंडल में ओपनिंग प्राइस ऊपर और क्लोजिंग प्राइस नीचे होता है। इसमें जो दोनो तरफ कैंडल की विंग होती है उसे शैडो बोलते है। ऊपर की तरफ ये शैडो बने तो इसे अपर शैडो और अगर नीचे की तरफ हो तो लोवर शैडो।

बीच का जी भाग है जो की कलर वाला भाग है उसे कैंडल की बॉडी कहते है। जब ये बॉडी हरी होती है तो ये बुलिश कैंडल है। इसका मतलब यह कि अभी बाजार में बायर्स है और जब कैंडल की बॉडी लाल हो तो सेलर्स हावी है।

अब आप कैंडल को तो अच्छे से समझ गए होगे अब हम जानते है कि कैंडल स्टिक पैटर्न क्या है 

कैंडल स्टिक पैटर्न

अभी हमने पीछे  कैंडल को समझा लेकिन जब यह  कैंडल बाजार में अलग अलग तरीके से बनती है जो कि बाजार में अलग-अलग संकेत  देती है संकेत देने वाली इन  कैंडल को कैंडल स्टिक पैटर्न कहते हैं

  बाजार के जानकार अलग-अलग बनने वाली कैंडल का उपयोग कर भविष्य में आने वाले उतार-चढ़ाव का पता लगा

कैंडल स्टिक पैटर्न के प्रकार

कैंडल स्टिक पैटर्न सामान्यतः तीन प्रकार के होते हैं। जो की इस प्रकार है।

सिंगल  कैंडल स्टिक पैटर्न

इस प्रकार के  कैंडल स्टिक पैटर्न एक कैंडल से  बने होते हैं इनके अंदर एक ही कैंडल बनती है जो की शेयर में होने वाले मूवमेंट को बताती हैं   उदाहरण के लिए हैमर, हैंगिंग मैन आदि 

डबल  कैंडल स्टिक पैटर्न

इस प्रकार के  कैंडल स्टिक पैटर्न दो कैंडल से मिलकर  बने होते हैं। इन दो कैंडल के आधार पर शेयर में आने वाले मूवमेंट का पता किया जाता है। उदाहरण के लिए पियर्सिंग लाइन पैटर्न, इंग्लेफिन कैंडल स्टिक पैटर्न 

मल्टीपल कैंडल स्टिक पैटर्न 

यह  कैंडल स्टिक पेटर्न 3 या 3 से अधिक के  कैंडल से मिलकर के बने होते हैं। इनमें चार या पांच कैंडल भी होती है। उदहारण के लिए मॉर्निग स्टार, इवनिंग स्टार

हाय प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न

अब हम बात करेंगे पांच ऐसे बड़े कैंडल स्टिक पैटर्न के बारे में जो कि बहुत ज्यादा प्रॉफिट देते हैं इन कैंडल स्टिक पैटर्न के संकेतों को अगर सही तरीके से काम में लिया जाए तो मैं बहुत ज्यादा मुनाफा भी देते है। तो यह जानते हैं कि कैंडल स्टिक पैटर्न कौन से हैं

हैमर कैंडल स्टिक पैटर्न 


यह कैंडल स्टिक पैटर्न हथौड़े के समान दिखता है इसलिए हैमर कैंडल स्टिक पैटर्न कहते हैं। इसकी एक तरफ की शैडो बहुत लंबी होती है दूसरी तरफ बॉडी बहुत छोटी होती है दूसरी तरफ बहुत ही कम होता है या नहीं होता है
Hammer candle stick pattern
हैमर कैंडल स्टिक पैटर्न 



यह कैंडल स्टिक पेटर्न अक्सर डाउन ट्रेन के अंदर बनते हैं जो कि ट्रेंड को बदलने का संकेत देते हैं यह कैंडल स्टिक पैटर्न जब चार्ट के बॉटम पर बनते तब ही यह मजबूत खरीदारी का सिग्नल देता है।

  हैमर पैटर्न में कलर का कोई फर्क नहीं पड़ता है चाहे यह हरा हो चाहे लाल हो यह दोनों  बराबर काम करता है।

  हैमर पैटर्न में शैडो लंबी होती है जो कि एक तरफ ज्यादा होती है रियल बॉडी थोड़ी होती है। जो कि ऊपर की तरफ होती होती है।

जब हैमर चार्ट के बॉटम में बनता है। तब यह खरीदारी का संकेत देता है। और जब यह चार्ट के टॉप पर बनता है तब यह बिकवाली के संकेत देता है।

यह ध्यान रहे कि यह पैटर्न सिर्फ चार्ट के बॉटम और टॉप पर बनना चाहिए बीच में बनने पर इसका कोई महत्व नहीं रहता है।

हैमर पैटर्न पर खरीदारी कब करें


जब चार्ट के बॉटम पर हैमर पैटर्न बनता है।  तब अगले दिन भाव  हैमर कैंडल के ऊपर जाने पर खरीदी की जाती है। तथा हैमर कैंडल के लो के नीचे का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।
हैमर चार्ट पैटर्न


एक चीज हमेशा ध्यान रखें इसमें हम जो टाइम फ्रेम लेते हैं कैंडल उसी हिसाब से बनती है जैसे   की आपने 5 मिनट का टाइम फ्रेम लिया है तो 1  कैंडल 5 मिनट की होती है और 1 दिन का टाइम फ्रेम लेते हैं तो एक कैंडल 1 दिन की होती है। यहां हम 1 दिन के टाइम फ्रेम के कैंडल के हिसाब से बात कर रहे हैं। अगर आप इसमें 15 मिनट का टाइम फ्रेम काम में लेते हैं तो आप 15 मिनट के टाइम फ्रेम पर बनने वाली कैंडल के हिसाब से कार्य कर सकते हैं।

इसके विपरीत जब यह हैमर पैटर्न चाट के ऊपर बनता है। तब इसे शूटिंग स्टार हैमर कहते है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के टॉप पर बनता है। जहा से यह बिकवाली का संकेत देता है। जब भाव हैमर के नीचे आते हैं तब हम वहां से बिकवाली करते हैं। तथा कैंडल स्टिक के हाई का स्टॉपलॉस लगाते है।
शूटिंग स्टार



चार्ट में ऊपर की तरफ बनने वाले हैमर पैटर्न को  बेयरिश हैमर पैटर्न कहते हैं और अगर यह चार्ट के नीचे की तरफ बने तब इसे बुलिश हैमर कहते हैं।
यह ट्रेंड रिवर्सल का संकेत होता है। इस कैंडल स्टिक पैटर्न का संकेत बहुत ही मजबूत होता है। यह पैटर्न अक्सर चार्ट में देखने को मिल जाता है।

इंग्लेफिन कैंडल स्टिक पैटर्न


 यह कैंडल स्टिक पैटर्न दो कैंडल से मिलकर बना होता है। इसमें एक कैंडल बड़ी और दूसरी कैंडल छोटी होती है। बड़ी कैंडल छोटी वाली कैंडल को पूर्ण रूप से इंगल्फ यानी कि छुपा लेती है।
 
जब यह कैंडल चार्ट के बॉटम पर बनता है तब यह बुलिश कैंडल स्टिक पैटर्न कहते है।
 
वहीं अगर यह चार्ट के टॉप पर बने तब यह बेयरिश इस कैंडल स्टिक पैटर्न होता है।

 यह कैंडल स्टिक पैटर्न डाउन ट्रेंड में बनता है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के बॉटम पर बनता है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न ट्रेंड रिवर्सल का सिग्नल देता है। इसमें पहले रेड कैंडल बनती बनती नीचे की तरफ आती है। फिर एक छोटी लाल कैंडल बनती है उसके बाद अगले दिन एक बड़ी ग्रीन कैंडल बनती है। जोकि लाल कैंडल को पूर्ण रूप से ढक लेती है जैसा की चित्र में दिखाया गया है। 
Bullish eanglfin



 कैंडल स्टिक पैटर्न में खरीदारी करने के  
 लिए बुलिश इंग्लेफिन के हाई के ऊपर निकलने पर खरीदारी की जाती है। तथा इसके लो के नीचे का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।
 यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के मध्य में बनने पर किसी भी उपयोग का नहीं रहता है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के बॉटम पर ही खरीदारी के संकेत देता है।

 इसके विपरीत जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के टॉप पर बनता है। तब इसमें ग्रीन कैंडल बनती हुई जाती है। और वह ग्रीन कैंडल ऊपर जाकर के छोटी हो जाती है। फिर उसके बाद एक बड़ी रेड कैंडल बनती है जो कि ग्रीन कैंडल को पूर्ण रूप से ढक लेती है। तो यह बेयरिश कैंडल स्टिक पैटर्न होता है। 
बेयरिश इंग्लफिन्न


  इस स्थिति में यह टॉप से डाउन ट्रेन बनने का संकेत देता है। जब इस कैंडल स्टिक पैटर्न में बड़ी लाल कैंडल के नीचे भाव आ जाता है। तो अब इसके बाद में भाव नीचे जाने की संभावना अधिक होती है। 

  यहां पर बड़ी लाल कैंडल के नीचे से बिकवाली की जाती है। तथा इसके लाल कैंडल के हाई के ऊपर स्टॉपलॉस लगाया जाता है यह कैंडल स्टिक पैटर्न भी अक्सर बाजार में देखने को मिलता है।

ट्विजर टॉप ट्विजर बॉटम


 यह कैंडल स्टिक पैटर्न भी अक्सर बाजार में देखने को मिलता है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न दो कैंडल से मिलकर के बना होता है। जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के बॉटम पर बनता है तब ट्विजर बॉटम कहते हैं।
ट्विजर बॉटम

 यह ट्रेंड रिवर्सल का सिग्नल देता है। यह दो कैंडल स्टिक से मिलकर के बना होता है। इसलिए इसे डबल कैंडल स्टिक पैटर्न भी कहते हैं। इस कैंडल स्टिक पैटर्न में बनने वाली दो कैंडल का लो लगभग समान होता है। इसका मतलब यह होता है कि अब यहां से ट्रेंड रिवर्सल हो सकता है।

 जब अगले दिन भाव इन दोनों कैंडल स्टिक के हाई प्राइज के ऊपर निकल जाता है। तब उसके अंदर खरीदारी की जाती है तथा इन दोनों कैंडल के लो के नीचे का स्टॉपलॉस लगाया जाता है। लेकिन ध्यान रहे इसमें जिस कैंडल कर लो ज्यादा नीचे होता है उसके नीचे का स्टॉक पर लगाया जाता है। 

वही इसका उल्टा जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के टॉप पर बनता है तो इस कैंडल स्टिक पैटर्न ट्विजर टॉप कहते हैं। यह ट्रेंड रिवर्सल का सिग्नल देता है। 
ट्विजर टॉप



इसके अंदर टॉपर बनने वाली दोनों कैंडल का हाई लगभग समान होता है। इसमें बनने वाली दोनों कैंडल के लॉ के नीचे प्राइस निकलने पर बिकवाली की जाती है। तथा दोनों कैंडल मैं जिस कैंडल हाई अधिक है उसके ऊपर का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।  यह हाई प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न है जो की अक्सर बाजार में बनता ही रहता है।

मरूबोजू कैंडल स्टिक पैटर्न 

 यह कैंडल स्टिक पैटर्न पेटर्न बाजार में बहुत ही कम देखने को मिलता है। परंतु जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न बनता है तो यह बहुत ही मजबूत संकेत देता है।
मरूबोजु


 यह कैंडल स्टिक पैटर्न चित्र में दिखाएं अनुसार बनता है। इस कैंडल स्टिक पैटर्न में कोई शैडो नहीं होती है और अगर होती है तो बहुत ही थोड़ी होती है। इसका ओपनिंग प्राइस इसका लॉ होता है और इसका क्लोजिंग प्राइस ही हाई होता है।
 
 
बुलिश मरूबोजू

जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न डाउन ट्रेंड में या फिर यूं कहें कि यह जब चार्ट के बॉटम पर बनता है। तब यह खरीदारी संकेत देता है। चार्ट के बॉटम पर जब एक ग्रीन कैंडल बनती है। इस कैंडल स्टिक पैटर्न में इस कैंडल के ऊपर भाव आने पर खरीदारी की जाती है तथा स्कैंडल के नीचे का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।
बेयरिश मरूबोजू


  इसका उल्टा जब यह कैंडल चार्ट के टॉपर बनती है तब स्कैंडल के अंदर बिकवाली के मजबूत संकेत होते हैं। इस कैंडल के ऊपर का स्टॉपलॉस लगाकर के इसके लॉ के नीचे से बिकवाली की जाती है। यह कैंडल स्टिक पैटर्न बहुत ही कम देखने को मिलता है। पर जब भी ये बनता है तो बहुत मजबूत संकेत देता है।

स्पिनिंग टॉप

 यह कैंडल स्टिक पैटर्न भी अक्सर बाजार में देखने को मिलता है। इस कैंडल स्टिक पैटर्न में बॉडी थोड़ी होती है। तथा इसकी बॉडी से इसकी शैडो डबल होती है। इस कैंडल स्टिक पैटर्न में शैडो दोनों तरफ होती है।
स्पिनिग टॉप


 इसका मतलब यह होता है। कि अब बाजार में बायर और सेलर दोनों बराबर है। जब यह कैंडल स्टिक पेटर्न चार्ट के बॉटम पर बनता है या यू कहे कि डाउन ट्रेन के अंदर बनता है। तब यह ट्रेंड रिवर्सल का सिग्नल देता है।

 चार्ट के बॉटम पर बनने का मतलब यह है कि अब यहां से शेयर का प्राइस ऊपर जाएगा जैसे ही शेयर का प्राइस स्पेलिंग टॉप के हाई के ऊपर निकलता है तब इसमें खरीदारी की जाती है। तथा इस स्कैंडल के नीचे का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।
स्पिनिंग बॉटम


 वही इसका उल्टा जब यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के टॉप पर बनता है। या यूं कहें कि अप ट्रेंड में बनता है। तब इसके अंदर बिकवाली के मजबूत संकेत होते हैं। इस स्थिति में जब शेयर का भाव इस कैंडल के लो के नीचे निकलते हैं। तब बिकवाली की जाती है तथा स्कैंडल के ऊपर हाई का स्टॉपलॉस लगाया जाता है।
स्पिनिंग टॉप

यह कैंडल स्टिक पैटर्न भी चार्ट में बहुत बार देखने को मिलता है। इसे कुछ लोग लॉन्ग टेल कैंडल स्टिक पैटर्न भी कहते है।

 निष्कर्ष


 इस आर्टिकल में हमने 5 टॉप हाई प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न के बारे में जाना इन कैंडल स्टिक पैटर्न के बाजार में बनने के बाद हमें तब तक खरीदारी नहीं करनी है। जब तक कि हमें कंफर्मेशन नहीं मिल जाता है।  साथ में यह भी सुनिश्चित करें कि यह कैंडल स्टिक पैटर्न चार्ट के बॉटम या टॉप पर ही बने हो। इन कैंडल स्टिक पैटर्न का बीच में बनने पर कोई महत्व नहीं रहता है। यह 5 कैंडल स्टिक पैटर्न बाजार में सबसे अधिक देखने को मिलते हैं। तथा सबसे मजबूत संकेत देते हैं।

  इस आर्टिकल में हमने सिर्फ 5 हाई प्रॉफिटेबल कैंडल स्टिक पैटर्न के बारे में जाना। आगे आने वाले आर्टिकल में हम और भी कैंडल स्टिक पैटर्न के बारे में जानेंगे। यह जानकारी आपको कैसी लगी कमेंट बॉक्स में जरूर बताएं शेयर बाजार के बारे में सीखने के लिए और अधिक जानकारी के लिए हमारे ब्लॉक rightinvestment90.com को फॉलो करें।
धन्यवाद!


एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने