स्विंग ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाए हिन्दी में

 अगर आप भी यह जानना चाहते हैं की स्विंग ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाए जा सकते है। तो यह आर्टिकल आप लोगों के लिए है। यहां हम स्विंग ट्रेडिंग के बारे में जानेंगे। अभी जानेंगे कि हमारे लिए कौन सी स्विंग ट्रेडिंग अच्छी रहेगी। 




{getToc} $title={Table of Contents}



स्विंग ट्रेडिंग क्या है?

जब किसी शेयर 1 दिन से अधिक समय के लिए होल्ड किया जाता है। तो उसे स्विंग ट्रेड कहा जाता है। इसमें किसी भी शेयर की खरीदारी और बिकवली एक दिन में ना हो करके एक दिन से अधिक समय में होती है। 



सामान्यतः शेयर 1 दिन से 10 दिन तक होल्ड किया जाता है। स्ट्रिंग ट्रेडिंग ज्यादा वोलेटाइल शेयर के अंदर किया जाता है। या ऐसे शेयर का चुनाव किया जाता ह।  जिसमें आने वाले समय में कोई न्यूज़ आने वाली हो।

स्विंग ट्रेडिंग में नुकसान की संभावना कम होती है। तथा मुनाफे की संभावना अधिक होती है। इसीलिए जो निवेशक है। वह स्विंग ट्रेडिंग करना ही पसंद करते हैं और बड़े-बड़े इन्वेस्टर भी स्विंग ट्रेडिंग और इन्वेस्टिंग को ही महत्व देते हैं।


स्विंग ट्रेडिंग इंट्रा डे ट्रेडिंग और लॉन्ग टर्म निवेश से कैसे अलग है?

आप भी यह सोच रहे होंगे की स्विंग ट्रेडिंग इंट्रा डे ट्रेडिंग और लॉन्ग टर्म निवेश में क्या फर्क है। तो चलिए लिए हम बात करते हैं कि शॉर्ट टर्म या स्विंग ट्रेडिंग जिसे हम बोलते हैं। इंट्रा डे ट्रेडिंग और लॉन्ग टर्म निवेश के अंदर क्या फर्क है।



स्विंग ट्रेडिंग के अंदर ट्रेड को 1 दन से अधिक समय के लिए होल्ड किया जाता है। इसकी अवधि 10 दिन तक की होती है। उसे स्विंग ट्रेड के अंदर लिया जाता है।

यह भी पढ़े:– 

स्विंग ट्रेडिंग कैसे करें हिन्दी मे


अब बात करें इंट्रा डे की तो इंट्रा डे ट्रेड को बाजार खुलने पर सुबह 9:15 से लेकर के 3:15 तक लिया जाता है।

 इंट्रा डे ट्रेड में आपकी पोजीशन 3:15 पर ऑटोमेटिक ही क्लोज कर दी जाती है कुछ ब्रोकर 3:20 पर भी क्लोज करते हैं। इंट्रा डे में आपको पोजीशन क्लोज करने ही होती है। चाहे आप नुकसान में हो या आप फायदे में हो सेम डे पर ट्रेड क्लोज हो जाता है।

लॉन्ग टर्म निवेश में किसी भी शेयर को 1 साल से अधिक समय के लिए होल्ड किया जाता है। लॉन्ग टर्म में शेर के खरीदने वाले को इन्वेस्टर कहा जाता है। इनमें कुछ बड़े इन्वेस्टर वारेन बुफेट और राकेश झुनझुनवाला है। 

लंबे समय के निवेश में मुनाफे की संभावना अधिक होती है। परंतु इसमें एक समस्या यह भी है। अगर हम किसी शेयर को लंबे समय तक होल्ड करते हैं। तो हो सकता है कि वह कंपनी का बिजनेस खराब हो जाए और हमें नुकसान का सामना करना पड़े।

इसलिए स्विंग ट्रेडिंग को सबसे सुरक्षित माना गया है। इस प्रकार की ट्रेडिंग में हम एक निश्चित मुनाफे पर अपना ट्रेड क्लोज करके निकल जाते हैं तथा हमारा नुकसान भी निश्चित होता है।

स्विंग ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमाए?

थोड़े समय में बेहतर लाभ
स्विंग ट्रेडिंग के माध्यम से आप थोड़े समय में अच्छा लाभ प्राप्त कर सकते हैं।
How earn money online from stock market



 इससे आपके समय और निवेशित पूंजी दोनों ही बचते हैं। आपको केवल शेयर की चाल को पकड़ते हुए अच्छा पैसा कमाने का मौका मिलता है।
बाजार के उतार-चढ़ाव से बचाव करता है स्विंग ट्रेडिंग 

स्विंग ट्रेडिंग में आप निवेश को एक निश्चित अवधि के लिए रखते हैं।

जिससे आपको अचानक बाजार में  होने वाले उतार-चढ़ाव की स्थिति से सुरक्षा मिलती है। हालांकि उतार-चढ़ाव कभी-कभी प्रकट हो सकते हैं। लेकिन स्विंग ट्रेडिंग सामान्य निवेश से अधिक सुरक्षित रहता है।

स्विंग ट्रेडिंग में नुकसान से बचने के 15 बेस्ट तरीके।

स्विंग ट्रेडिंग से पैसे तो बहुत कमाया जा सकता है। लेकिन इसमें रिस्क भी ज्यादा है। इससे बचने के लिए मैं आपको 15 ऐसे तरीके बताता हूं जिससे आप स्विंग ट्रेडिंग से पैसा आसानी से कमा सकते हैं। साथ ही अपने नुकसान को कम से कम करके अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं।

15 best way to avoid loss in stock market



1. शेयर का भाव उचित लेवल पर आने तक प्रतीक्षा करें

निवेश में सफलता पाने के लिए अच्छा होता है कि आप शेयर के भाव के उचित स्तर पर आने प्रतीक्षा करें। जब आप शेयर खरीदने का निर्णय लेते हैं। तो ध्यान देने योग्य होता है कि आप उचित मूल्य पर खरीदारी करें।

जिससे आपके निवेश की सुरक्षा और मुनाफा बना रहे। बाजार के परिस्थितियों को मध्यस्थ रखते हुए सही समय पर खरीदारी करने के लिए धैर्य रखना महत्वपूर्ण होता है। ऐसा करके आप आपके निवेश की सुरक्षा और वित्तीय लक्ष्य को प्राप्त कर सकते है।

2. सारा पैसा एक ही शेयर में ना लगाएं

यह एक बहुत महत्वपूर्ण सावधानी है कि सारे पैसे को एक ही शेयर में नहीं डाले। पैसे को लगाने से पहले जरूरी है कि आप निवेश के सही नियमों का पालन करें।

ताकि आपका पैसा सुरक्षित रहें और जोखिम कम हो। अलग-अलग कंपनियों में पैसे लगाकर आप अपने पैसे की विविधता बढ़ा सकते है।और सुरक्षित महसूस कर सकते है। ध्यान रखे शेयर बाजार में जोखिम होता है।इसलिए सोच-समझकर ही निवेश करे और अपने पैसे को प्राथमिकता दे।

3. अच्छी स्ट्रेटजी को फॉलो करें

एक सफल रणनीति का पालन करना हमेशा महत्वपूर्ण होता है। आपके लक्ष्य को पूरा करने के लिए सबसे पहले आपको वित्तीय लक्ष्यों को प्राथमिकता देनी चाहिए।

उन्हें छोटे-छोटे टुकड़ों में विभाजित करना चाहिए। आपको उचित समय प्रबंधन का पालन करना और सही मानदंडों की स्थापना करना चाहिए। ताकि आप नियमित रूप से प्रगति का मूल्यांकन कर सकें।

साथ ही नई और आवश्यक जानकारी को अपनी योजनाओं में शामिल करना न भूलें। क्योंकि यह आपके नए दिशानिर्देश और विचारों को प्रोत्साहित कर सकता है।

धीरे-धीरे अपनी प्रगति को मॉनिटर करते रहें और आवश्यकतानुसार अपनी रणनीति में सुधार करें। इस प्रकार आप अपने लक्ष्यों की प्राप्ति की ओर कदम बढ़ा सकेंगे।

4. शेयर के ब्रेक आउट पर नजर रखें

जब आप निवेश कर रहे होते हैं तो शेयर बाजार के मूड में बदलाव को ध्यान से देखना महत्वपूर्ण होता है। 

आपके निवेश के परिणाम पर इसका बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है कि किसी विशेष शेयर मे ब्रेकआउट का हुआ है या नहीं। 

ब्रेकआउट का मतलब होता है कि शेयर की कीमत अचानक एक निश्चित स्तर से बाहर निकल जाती है। जो आमतौर पर पिछली ट्रेंड के साथ बनता है। 

यह एक संकेत हो सकता है कि शेयर की मूल्य में एक महत्वपूर्ण बदलाव हो सकता है। इसलिए निवेशकों को ब्रेकआउट स्तरों की निगरानी रखने के लिए सतर्क रहना चाहिए क्योंकि यह निवेश के फैसलों पर सीधा प्रभाव डाल सकता है।

5. नुकसान वाली ट्रेड में एवरेज ना करें

जब हम किसी नुकसान वाली ट्रेड में एवरेज का प्रयोग करते हैं। तो हम आमतौर पर उस तथ्य को नजरअंदाज कर देते हैं कि हमारे पास पहले से ही लाभकारी सूचना है। और भविष्य में जो भी घटना होगी उससे हमारे लाभ में सुधार होगा।

लेकिन यह सोचना गलत हो सकता है। अक्सर ऐसा होता है कि शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव होते रहते हैं और एक समय में नुकसान आना स्वाभाविक होता है।

इस स्थिति में एवरेजिंग का प्रयोग करने से हम अपनी नुकसान को और भी बढ़ा सकते हैं। क्योंकि यह हमें उन नुकसान सहन नही कर पाते जो हमें वास्तविकता में लाभ पहुंचाते हैं।

इसलिए नुकसान वाले ट्रेड में एवरेज का प्रयोग करने की बजाय। ट्रेड से बाहर निकल जाना चाहिए। या विचारपूर्ण निर्णय लेना चाहिए।

6. बाजार की न्यूज से अपडेट रहें

आप बाजार की नवीनतम जानकारी के लिए विभिन्न समाचार स्रोतों का उपयोग कर सकते हैं। व्यापारिक समाचार पत्रिका, वेबसाइट, या समाचार ऐप्स के माध्यम से आप बाजार की ताजा खबरों को जान सकते हैं। 

विशेषज्ञों की सलाह पर भी ध्यान दें और सावधानी बरतें। अपने रिसर्च करके ट्रेड ले।क्योंकि बाजार में निवेश करने से पहले उचित जानकारी प्राप्त करना महत्वपूर्ण होता है।

7. मार्केट के ट्रेंड को फॉलो करें

शेयर मार्केट में एक कहावत है "ट्रेंड इस योर फ्रेंड" जब स्विंग ट्रेडिंग की जाती है। तो इस बात का विशेष ध्यान रखा जाता है की मार्केट का ट्रेंड किस तरफ है। 

अगर हम अप ट्रेंड के अंदर खरीदारी का ट्रेड लेते हैं तो हमारे मुनाफा कमाने की संभावना अधिक होती है। 

वहीं अगर हम अप ट्रेंड के अंदर बिकवाली का ट्रेड लेते हैं तो हमारे मुनाफा कमाने की संभावना बहुत ही काम हो जाती है। 

इसलिए हमेशा मार्केट ट्रेंड को फॉलो करें मार्केट ट्रेंड के अनुसार ही ट्रेडिंग करें।

8. सेक्टर के ट्रेंड को फॉलो करें

मार्केट ट्रेंड के साथ-साथ हमें यह भी देखना जरूरी होता है कि हम जिस शेयर को खरीद रहे हैं वह किस सेक्टर से है। और उसे सेक्टर का ट्रेंड  किधर है। 

मान लो आईटी सेक्टर का ट्रैंड डाउन है और मार्केट का ट्रेन अप है तो उसे समय अगर हम आईटी सेक्टर के शेयर के अंदर खरीदारी कर लेते हैं तो हमें नुकसान की संभावना अधिक होती है। 

इस तरीके से हमको मार्केट का साथ-साथ सेक्टर के ट्रेंड को भी फॉलो करना होता है सेक्टर के ट्रेंड से मैं यह पता चलता है कि कौन से सेक्टर के कौन से शेयर ऊपर की तरफ जा रहे हैं और कौन से सेक्टर के कौन से शेयर नीचे की तरफ जा रहे हैं।  हमें उसी हिसाब से अपने ट्रेड को लेना होता है।

9. चार्ट पढ़ना सीखे

चाहे आप स्विंग ट्रेडिंग करें चाहे इंट्रा डे ट्रेडिंग चाहे ऑप्शन ट्रेडिंग आप किसी भी प्रकार की ट्रेडिंग करें लेकिन आपको चार्ट को पढ़ना बहुत ही अच्छी तरीके से आना चाहिए।

अगर आप चार्ट पढ़ने में सक्षम हैं तभी आप स्विंग ट्रेडिंग के अंदर एक सफल ट्रेंड बन सकते हैं। अगर आपको चार्ट को ढंग से पढ़ना नहीं आता है या आप चार्ट पढ़ने के अंदर कमजोर हैं। आप चार्ट को नहीं समझते हैं तो आप स्विंग ट्रेडिंग भी नहीं कर सकते। इसलिए चार्ट पढ़ना सीखे और स्विंग ट्रेडिंग के अंदर सफलता हासिल करें।

10. स्टॉप लॉस और टारगेट पहले से तय करें

अगर आप अपने ट्रेंड के लिए स्टॉप लॉस और टारगेट को पहले से ही स्पष्ट रूप से निर्धारित कर लेते हैं तो आपके नुकसान की संभावना बहुत कम हो जाती है। 

स्टॉप लॉस और टारगेट पता करने के लिए आपको उचित रणनीति और योजना बनाने की आवश्यकता होती है। 

इसका मतलब है कि आपको वितीय लक्ष्यों को स्पष्ट रूप से पहचानने के बाद उन्हें साधने के लिए आवश्यक कदमों की ओर बढ़ना होगा। 

11. स्टॉप लॉस का सख्ती से पालन करें

स्विंग ट्रेडिंग करने वाले अधिकांश ट्रेडर नुकसान उठाते हैं। क्योंकि वह अपने स्टॉपलॉस का सख्ती से पालन नहीं करते हैं। 

अगर हम एक निश्चित स्टॉप लॉस का अगर सख्ती से पालन करें और हमारी अच्छी स्ट्रेटजी है जिसका रिस्क रिवॉर्ड रेशों 1:3 है। तब हम हमारे  10 में से अगर 5 ट्रेड भी सही होते हैं तब भी हम प्रॉफिट में रहते हैं।

वहीं अगर हम इसी स्ट्रेटजी से अगर हम स्टॉपलॉस का पालन नहीं करते हैं। तो हमें नुकसान का ही सामना करना पड़ता है चाहे हमारे 10 में से 8 ट्रेड ही सफल क्यों ना हो।

12. अपना मुनाफा निश्चित करके सख्ती से पालन करें

अधिकांश से यह देखा जाता है कि कुछ ट्रेडर ट्रेड करने पर प्रॉफिट में चले जाते हैं। उन्हें अच्छा मुनाफा भी हो रहा होता है।  उनका टारगेट भी उनको मिल जाता है। 

उसके बावजूद भी वह प्रॉफिट को बुक नहीं करते हैं फिर धीरे-धीरे जब पोजीशन नीचे आती जाती है तो फिर भी अपने प्रॉफिट को बुक नहीं कर पाते और वह शेयर लॉस में चला जाता है।

इस तरीके के ट्रेडर अधिकांश लॉस में ही रहते हैं। इसके लिए आपको यह जरूरी है कि आप अपने टारगेट का सख्ती से पालन करें या फिर आप ट्रेलिंग स्टॉप लॉस का उपयोग करें। 

अगर आपका टारगेट अचीव हो जाता है तो आप अपने स्टॉपलॉस को ट्रेल करें जिससे आपका नुकसान की संभावना बहुत ही काम हो जाती है।

13. सही रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो को फॉलो करें

स्विंग ट्रेडिंग हो चाहे इंट्रा डे ट्रेडिंग हो चाहे ऑप्शन ट्रेडिंग हो अपने स्ट्रेटजी में सिर्फ वही शेयर खरीदे जिनका रिस्क रिवॉर्ड रेशों 1:3 या 1:2 हो। 

अगर हमें कोई ऐसा शेयर दिखता है जिसका रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो 1:1 है तो इस शेयर को नहीं लेना चाहिए। चाहे से वह कितना भी स्ट्रांग सिग्नल देता हो।

आप अधिकांश 1:3  रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो का ही पालन करें। क्योंकि 1:3 रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो में अगर आपके 10 में से 5 ट्रेड भी सही होते हैं तो भी आप प्रॉफिट में रहते हैं। 

वहीं अगर आप 1:1 रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो का पालन करते हैं और आपके 10 में से 8 ट्रेड सही जाते हैं। तब भी आप बराबर में रहते हैं ना प्रॉफिट ना लॉस।
इसलिए हमेशा 1:3 रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो
का ही पालन करें।

14. दूसरों की सलाह से कभी भी ट्रेड ना करें

मार्केट को प्रेडिक्ट करना मुश्किल ही नहीं है बल्कि नामुमकिन है। अगर आप किसी दूसरे की सलाह लेते हैं एक से दूसरे के कहने पर ट्रेड लेते हैं तो वह आज से बंद कर दीजिए क्योंकि कोई भी यह नहीं बता सकता की मार्केट किधर जाएगा।

मार्केट के अंदर सिर्फ स्ट्रेटजी को फॉलो किया जाता है इसलिए एक अच्छी स्ट्रेटजी सीखें और खुद अपने शेयर को चुनकर के अपना पैसा निवेश करें दूसरों के कहने में आकर या न्यूज़ चैनल पर देख करके किसी भी शेर को बाय न करें।

15. कभी भी उधर का पैसा या लोन लेकर के ट्रेड ना करें।

शेयर मार्केट का कोई भरोसा नहीं होता है चाहे आपका ट्रेड कितना भी सटीक हो चाहे आपको कितना भी अपने ट्रेड अपनी स्ट्रेटजी पर विश्वास हो पर परंतु कभी भी आपको अपने दोस्तों से या बैंक उधार लेकर या बैंक से लोन लेकर के ट्रेड नहीं करना चाहिए।

स्विंग ट्रेडिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता है? हिंदी में

स्विंग ट्रेडिंग से कितना पैसा कमाया जा सकता है यह वाक्य एक आम सवाल है। लेकिन इसका कोई निश्चित उत्तर नहीं होता। स्विंग ट्रेडिंग एक प्रकार की ट्रेडिंग है। जिसमें ट्रेडर विभिन्न दिनों या हफ्तों तक किसी विशिष्ट वित्तीय उपकरण की मूवमेंट का पता लगाने की कोशिश करता है।

यह आवश्यक है कि ट्रेडर के पास अच्छी समझ और अनुभव हो। साथ ही उन्हें बाजार के उतार-चढ़ाव को समझने की क्षमता भी हो। 

पैसा कमाने की क्षमता ट्रेडर की निष्कर्ष क्षमता पर भी निर्भर करती है। क्योंकि बाजार में अनियमितता होती है और निवेश जोखिमपूर्ण होता है। इसलिए स्विंग ट्रेडिंग से पैसे कमाने की क्षमता को गहराई से समझकर सतर्कता और सही दृष्टिकोण और प्रयास शीलता से काम करना आवश्यक होता है।

शुरुआती लोगों के लिए ट्रेडिंग का कौन सा तरीका अच्छा है?

शुरुआती लोगों के लिए वित्तीय बाजार में निवेश करने का सबसे अच्छा तरीका धीरे-धीरे शिक्षा प्राप्त करके शुरू करना होता है। 

पहले तो आपको बाजार संकेतो को समझ पाने के लिए समय देना चाहिए। ताकि आप बाजार की चाल को समझ सकें और जान सकें कि कैसे निवेश करना है। 

साथ ही आपको बेहतरीन सलाह और निवेशित धन के प्रबंधन के तरीकों को सीखने की भी जरूरत होती है। 

धीरे-धीरे निवेश करने से आपको नुकसान का सामना नहीं करना पड़ता है और आप निवेश में अधिक सुरक्षित महसूस करते हैं। 

आखिरकार जब आपको बाजार की प्रक्रिया समझ में आ जाए, तो आप धीरे-धीरे अधिक निवेश करने का विचार कर सकते हैं।

क्या स्विंग ट्रेडिंग से अमीर हो सकते हैं?

स्विंग ट्रेडिंग एक ऐसा वित्तीय गतिविधि है जिसमें व्यापारिक उपकरणों को कुशलतापूर्वक उपयोग करके स्टॉक बाजार की संवेदनशीलता का उपयोग किया जाता है। 

यह व्यापारिक तकनीक है जो अनुभवी व्यापारियों के द्वारा अपनाई जाती है। क्योंकि यह समय-समय पर जोखिमपूर्ण हो सकती है। इसमें व्यक्ति कम समय में बड़े लाभ प्राप्त करने की कोशिश करता है। 

लेकिन यहां सही विश्वसनीयता शिक्षा और विश्लेषण की आवश्यकता है। अगर आप बाजार के परिप्रेक्ष्य में सटीक निर्णय लेने में समर्थ हैं और बड़ी धैर्यशीलता रखते हैं। तो स्विंग ट्रेडिंग से आपकी वित्तीय स्थिति में सुधार की संभावना है। हालांकि इसमें निवेश के साथ अध्ययन और समय दोनों की महत्वपूर्ण आवश्यकताएं होती हैं।

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने